Tuesday, November 20, 2012

जिंदगी




विचारों का अधूरा मंथन
कभी प्रेम, समर्पण, कभी अनबन
जिंदगी- एक अंतरद्वंद!
थरथराहट बर्फीली पवन की
कभी रेगिस्तानी तपन
कभी बेमौसम बरखा, कभी सूखा सावन
जिंदगी- गूढ़ प्रश्न!
कभी टीस भरा दर्द, कभी घाव की जलन
एक अनजाना दर्द, कभी कांटों भरी चुभन
जिंदगी-बुरा स्वप्न!
संभवत:
खुशी का एक क्षण, धरती को छूता गगन
नई उमंगें, एक मतवालापन
जिंदगी- शेष जीवन!

-राजीव शर्मा

1 comment:

हमारीवाणी said...

आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी कोड नहीं लगा हुआ है, इस कारण आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर समय पर प्रकाशित नहीं हो पाती है. कृपया हमारीवाणी में लोगिन करके कोड प्राप्त करें और अपने पर ब्लॉग लगा लें. इसके उपरांत जब भी नई पोस्ट लिखें तब तुरंत ही हमारीवाणी क्लिक कोड से उत्पन्न लोगो पर क्लिक करें, इससे आपकी पोस्ट तुरंत ही हमारीवाणी पर प्रकाशित हो जाएगी.

यहाँ यह ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि हमारीवाणी पर हर एक ब्लॉग के लिए अलग क्लिक कोड होता है.

अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

टीम हमारीवाणी