Monday, July 30, 2012

कुछ तुम पागल कुछ हम पागल


कुछ तुम पागल कुछ हम पागल
पागल सी है दुनिया सारी
मैं पागलपन का कायल हूं
पागल से ये दुनिया हारी....

पागल को पागल गर कह दो
वो मंद-मंद मुस्काता है
नहीं फिक्र उसे किसी आम-खास की
वो खुद गाता-चिल्लाता है...
पागलपन यारों नशा एक
ये नहीं है कोई बीमारी
पागल से दूजा नहीं श्रेष्ठ
पागल ने ये दुनिया तारी...

पागल बनकर देखो तुम भी
क्या खूब मजा फिर आएगा
आंसू को पीने वाला भी
हंस-हंस कर गीत सुनाएगा
अपनी दुनिया का मालिक वो
है बिन कुर्सी का अधिकारी
पागल को मेरा श्रद्धेय नमन
पागलपन का मैं पुजारी

पागलपन पाने की खातिर
तप कठोर करना पड़ता है
आसान नहीं पागल बनना
जीते-जी मरना पड़ता है
शब्द-शब्द और श्वांस-श्वांस जब
घुट-घुट कर दब जाते हैं
दशकों तक चलता है ये क्रम
तब बिरले पागल बन पाते हैं....
नहीं आम शख्स पागल कोई..
मनुज है कोई अवतारी
मैं पागलपन का कायल हूं,
पागल से ये दुनिया हारी....

No comments: