Monday, July 21, 2008

जै जै कुर्सी मैया

मनमोहन कुर्सी बचाइए, बिन कुर्सी सब सून,
कुर्सी के बिन नहीं मिले, सोनिया को सुकून।

सांसद- वान्साद जोड़ के, कुर्सी लई बनाय,
चढ़ मनमोहन कह रहे, सरकार लियो बचाय

पाहन पूजे हरी मिले, तो मैं पूजूं पहार
ताते यह कुर्सी भली, बनवादे सरकार

बम भोले का शोर है, एटम बम का जोर
भक्ति-शक्ति साथ ले रहीं मनवा में हिलोर

5 comments:

Udan Tashtari said...

आपकी प्रार्थना में दम है..लिजिये, बच गई सरकार. :)

kapil kumar said...

sarkar to apne bachwa hi li.

Rajeev Sharma said...

true'

Rajeev Sharma said...

true'

Rajeev Sharma said...

true