Sunday, September 7, 2008

क्रोसिंग कनेक्शन ...यहाँ क्लिक करें

कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी, सदियों रहा है दुश्मन दौरे जहाँ हमारा... जी हाँ, यही हकीकत है शहर के एक चौराहे कि, जिसने छः दशकों से ज्यादा का सफर तय किया है।

3 comments:

manvinder bhimber said...

बहुत ही अच्छा लिखा है ......
विचार भी अच्छे हैं .....
जरी रखें

Shastri said...

छ: और दशक पार होने दें!!



-- शास्त्री जे सी फिलिप

-- हिन्दी चिट्ठाकारी अपने शैशवावस्था में है. आईये इसे आगे बढाने के लिये कुछ करें. आज कम से कम दस चिट्ठों पर टिप्पणी देकर उनको प्रोत्साहित करें!!

kapil kumar said...

kya baat hai bhai TRP lagataar badhti hi ja rahi hai. baaki khabron me comment dene ke liye opstion hi nahi hai....
-KAPIL MEERUT