Saturday, July 5, 2008

जिन्दगी

जिन्दगी दर्द भी है, राहत भी

मौत एक वहम है, हकीकत भी

यूँ तो कहने को यह एक पहेली है

सच पूछो तो जिन्दगी मौत की सहेली है।

जिन्दगी पतझड़ है बसंत भी

यह एक महका हुआ चमन भी

यूँ तो कहने को यह एक दिखावा है

सच पूछो तो यह एक खुबसुरत छलावा है।

जिन्दगी खुश है, जिन्दगी उदास भी

यह तो सुख दुःख का मिलाप भी

यूँ तो कहने को यह एक समस्या है

सच पूछो तो यह जिन्दगी एक तपस्या है।

जिन्दगी मांग है बलिदान भी

यूँ तो कहने को यह एक darpad bhi

सच पूछो तो जिन्दगी समर्पद भी

जिन्दगी चुनोती है vikharab bhi

यह एक sanghash है dahrav भी

यूँ तो कहने को यह एक nyauta है

सच पूछो तो जिन्दगी एक samjhauta है

6 comments:

सुशील राघव said...

babhut achchha!!! lagatar likhte rahiye.

छत्तीसगढिया .. Sanjeeva Tiwari said...

बढिया प्रयास है आपका, धन्यवाद । इस नये हिन्दी ब्लाग का स्वागत है ।
शुरूआती दिनों में वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें इससे टिप्पयणियों की संख्या‍ प्रभावित होती है
(लागईन - डेशबोर्ड - लेआउट - सेटिंग - कमेंट - Show word verification for comments? No)
आरंभ ‘अंतरजाल में छत्तीसगढ का स्पंदन’

priti said...

ZINDGI

vichaaron ka adhura manthan
khabhi prem, samarpan, kabhi anban
zindagi ek antardwand..
thartharaahat barfeeli pawan ki
kabhi registaani tapan,
kabhi bemausam barsat,
kabhi sookha sawan,
zindgi..goor prashn ..
kabhi tees bhara dard, kabhi ghaav ki jalan,
zindgi dara hua swapn..
sambhavath: khushi ka ek chhan, dharti ko chhoota gagan,
nai umange..ek matwalapan
zindgi SheSh Jeevan

priti said...

zindgi ek muthhi ret..

muthhi bheenckar sahej kar rakhi thi ret..
haath se chhoot na jaye kahin, sochkar ye jitna sametna chaha utna hi fisalti gayi,
jab haath khola to hatheli ki rekhaon main ret ke avshesh shesh the, jinhe phoonk se uda dena hi sreyaskar tha,
taaki nai ret se phir muthhi bhari ja sake aur guman rahe ki abhi muthhi bhar ret baaki hai...

रश्मि प्रभा said...

zindagi ke vividh rupon se aasha ke dwar kholna
achha hai,likhte rahen

kapil kumar said...

very gud rajeev ji, achha paryas hai.lage raho?
-kapil meerut